Sunday , 22 January 2017
Live

Editorial (सम्पादकीय)

हम बोलेगा तो बोलोगे कि “बोलता है”

ndtv-ban

NDTV के नौ नवम्बर के प्रसारण को एक दिन के लिए रोकना अपने आप में लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के ऊपर कुठाराघात करने के समान है। यह आहट है एक अघोषित आपातकालीन स्थिति की। यदि ऐसा होता है तो, अत्यन्त दुःख के साथ कहना पड़ेगा कि भारतीय लोकतंत्र की गौरवशाली परंपरा के इतिहास में वह तिथि एक काले धब्बे के रूप में पहचान बनाएगी। यह चौथा स्तंभ के भविष्य के दुर्दिनों की आहट भी हो सकती है, इस आहट में छुपा है कुछ ईमानदार व संवेदनशील लेखकों – पत्रकारों – ... Read More »

मैडम तुसाद म्‍यूजियम से हटेगा बिग बी का मोम का पुराना पुतला

big-b-mom-statue

मुंबई: सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के मोम के पुतले को बदलकर लंदन के संग्रहालय मैडम तुसाद संग्रहालय में दूसरा पुतला लगाया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू हो चुकी है और अमिताभ ने कपड़े वगैरह के नाप भी दे दिए हैं। दरअसल, मैडम तुसौद संग्रहालय में साल 2000 में अमिताभ के मोम का पुतला लगाया गया था। उस समय अमिताभ की फिल्म ‘कभी ख़ुशी कभी ग़म’ की शूटिंग चल रही थी। अमिताभ के जो पुतले का लुक है, वह उस फिल्म का लुक था जिसमें बिग बी फ्रेंच कट सफ़ेद दाढ़ी ... Read More »

कुर्सी के शेर

Graphic1

सम्पादकीय –                      कुर्सी के शेर भारत के एक और महापर्व का  सुखद अंत हुआ , जनता जनार्दन के आशीर्वाद रुपी मत से कुछ को पुनर्जीवन (राजनैतिक ) कुछ को पुनर्प्रतिक्षा (अगले महापर्व की) प्राप्त हुई . एक ओर जहां ममता दीदी और अम्मा ने अपने अश्वमेध घोड़े दौड़ाये और अपना यज्ञ पूरा किया , अपने शाशन की सफलता व विफलताओं को दरकिनार कर अभीष्ट प्राप्त किया ,वहीं दूसरी ओर असम कांग्रेस के लिए दुस्वप्न साबित हुआ , वर्षों से चली आ रही परंपरा मानो टूट सी गयी , खैर कांग्रेस ... Read More »

छलियों को छोड़कर, किसान अपने हक की लडाई स्वयं क्यों नहीं लड़ते?

राष्ट्रपति महोदय द्वारा सरकार की ओर भेजे गए अध्यादेश पर हस्ताक्षर करने के बाद भूमि अधिग्रहण अध्यादेश एक बार फिर निरन्तरता के क्रम में लागू हो गया। सरकार की ओर से पेश किया गया भूमि अधिग्रहण विधेयक विपक्ष के ज़बरदस्त विरोध की बीच बीते महीने लोकसभा में पारित कर दिया गया था. पर राज्यसभा ने इसे अब तक पारित नहीं किया है। सरकार को इस अध्यादेश के खत्म होने के पहले राज्यसभा से विधेयक पारित करवा लेना होगा। नए अध्यादेश में नौ संशोधन जोड़े गए हैं. ये सभी संशोधन लोकसभा ... Read More »

भारतीय लोकतन्त्र में आज ‘वेलेण्टाइन’ हो गया

ajay_nirdosh_big

आखिर, भाजपा के अश्वमेघ यज्ञ के घोड़े को पकड़ा ‘आप’ नें नि:सन्देह दिल्ली की विधान सभा २०१५ का चुनावी परिणाम अप्रत्याशित है। विशेषकर दिल्ली से बाहर के प्रदेश वासियों के लिए। लेकिन यह भी सत्य है कि ‘दिल्ली’ नें ‘आप’ को सरेआम सारे रस्मों-रिवाज को तोड़कर गले लगाया है। सचमुच, इस आलिंगन नें आज भारतीय लोकतन्त्र में वेलेण्टाइन हो गया। भारत की दो राष्ट्रीय पार्टियाँ पहली काँग्रेस, जो अभी हाल ही में लोक सभा चुनाव में बुरी तरह से पराजित होकर सत्ता से बाहर जा चुकी है व दुसरी भारतीय ... Read More »

दिल्ली की चुनावी “पीपली लाईव” में केजरीवाल का बवंडर

kejriwal

दिल्ली विधानसभा २०१५ चुनाव के अब चन्द दिन ही शेष रह गए हैं लेकिन यह विडम्बना ही है कि चुनाव प्रचार अपने चरम पर होने के वावजूद दिल्ली के सन्दर्भित मुद्दे गौण हैं जिससे अरविन्द केजरीवाल का भूत अब बृहद रूप से जनसाधारण में आकार लेता जा रहा है। विपक्षियों को केजरीवाल की खाँसी और मफ़लर में ही दिल्ली की मूल भूत समस्याएँ नज़र आ रही हैं। अरविन्द केजरीवाल की जाति और गोत्र तक पहुँचने वाली पार्टी की संकुचित परिधि से परे दिल्ली के मतदाता बाहर जा चुके हैं, लेकिन ... Read More »

दत्तक – ग्रहण के नाम पर देश में नवजात शिशुओं का होता है – “क्रय – विक्रय”

ajay_nirdosh_big

आपके समक्ष बाल दिवस के अवसर पर एक नवजात ई – पत्रिका “HOPES MAGAZINE” है । इस पत्रिका का भविष्य अब आपके हाथ में है । नवजात पत्रिका के प्रथम सम्पादकीय की विषय – वस्तु भी “नवजात शिशुओं” से ही सम्बन्धित है । इसकी पृष्ठभूमि मानवीय सम्बन्धों पर आधारित सामाजिक संरचना की विद्रूपता में निहित है । प्रत्येक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी आज बाल दिवस मनाया जा रहा है । वर्ष में एक दिन बच्चों के नाम होगा । रेडियो, टेलिविॹन, समाचार पत्र- पत्रिकाओं में स्व० चाचा नेहरू ... Read More »