देश भर में पहली अप्रैल से विकल्प स्कीम लागू कर रहा रेलवे

देशभर में पहली अप्रैल से भारतीय रेलवे यात्रियों की सुविधाओं को बढ़ाते हुए विकल्प स्कीम शुरू करने जा रहा है। इस स्कीम के जरिए उन लोगों को फायदा होगा जिनका ट्रेन टिकट वेटिंग लिस्ट में है। दरअसल स्कीम के तहत वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को उसी रूट पर जाने वाली दूसरी ट्रेन में कन्फर्म सीट लेने का विकल्प होगा। हालांकि इसकी सुविधा लेने से पहले ये पांच बाते जनना बेहद जरूरी है।

छह मार्गों पर छह महीने तक पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चलाने के बाद बुधवार को रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इसे देश भर में लागू करने की घोषणा की है। शुरुआत में यह स्कीम सिर्फ ई-टिकट की बुकिंग प्रक्रिया पर ही लागू होगी। आपको टिकट बुक कराते समय ही ‘विकल्प’ चुनाना होगा। जल्द ही इसे टिकट खिड़की पर भी उपलब्ध कराया जाएगा।

इस स्कीम की शर्त यह है कि अगर यात्री को विकल्प के तौर पर दी गई ट्रेन में सफर नहीं करना है तो टिकट कैंसिल भी कराया जा सकेगा, लेकिन यह कन्फर्म टिकट को कैंसिल करना ही माना जाएगा। रिफंड नियमों के मुताबिक, पूरी तरह से कन्फर्म टिकट को कैंसिल करने पर कैंसिलेशन फीस के तौर पर बड़ा चार्ज काटा जाता है। हालांकि रेलवे अधिकारियों का कहना है कि यह संभावना कम ही होगी कि यात्री को टिकट कैंसिल करना पड़े क्योंकि बुकिंग के समय पर ही यह बता दिया जाएगा कि विकल्प के तौर पर कौन सी ट्रेन होगी।

स्कीम के तहत ऐसा भी हो सकता है कि यात्री ने राजधानी या शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन का टिकट लिया हो लेकिन सफर मेल/एक्सप्रेस ट्रेन में करना पड़े। साथ ही मेल/एक्सप्रेस ट्रेन के टिकट वाले यात्रियों को राजधानी में भी सफर करने का मौका मिल सकता है।