कुलभूषण जाधव की फांसी पर कोई ‘समझौता’ नहीं: पाकिस्तान

पाकिस्तान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा के मामले पर कोई ‘समझौता’ नहीं करने का फैसला किया है। गौरतलब है कि भारत ने चेतावनी दी है कि जाधव को फांसी देने का द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर असर होगा। इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशन्स (आईएसपीआर) ने एक बयान में कहा कि सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई कोर कमांडरों की बैठक में यह फैसला किया गया। बयान के अनुसार वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों को जाधव के बारे में जानकारी दी गई और यह फैसला किया गया कि ‘इस तरह की राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर कोई समझौता नहीं होगा।’ कूलभूषण की फांसी की सजा को लेकर भारत द्वारा लगातार आपत्ति जताई जा रही है।

जाधव को ‘जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों’ का दोषी करार देते हुए फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल ने मौत की सजा सुनाई और जनरल बाजवा ने इस सजा की पुष्टि की। पाकिस्तान का दावा है कि उसके सुरक्षा बलों ने पिछले साल तीन मार्च को बलूचिस्तान प्रांत से जाधव को गिरफ्तार किया था जो ईरान की सीमा से कथित तौर पर दाखिल हुआ है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चेतावनी दी है कि जाधव को फांसी देना ‘सुनियोजित हत्या’ होगी और पाकिस्तान को द्विपक्षीय संबंधों पर पड़ने प्रभावों के बारे में सोचना चाहिए।