मून के हाथों में दक्षिण कोरिया की कमान

वामपंथी झुकाव वाले पूर्व मानवाधिकार वकील मून जाए इन ने चुनाव में जबरदस्त मतों से जीत हासिल करने के बाद दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के रूप में आज कार्यकाल आरंभ किया।देश की पूर्ववर्ती राष्ट्रपति पार्क गेउन हाई को भ्रष्टाचार घोटाले में फंसने के बाद पद से हटा दिया गया था जिसके बाद ये चुनाव हुए थे।

पार्क गेउन हाई के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण महाभियोग चलाए जाने के बाद उन्हें पद से हटा दिया गया था, जिसके बाद यह चुनाव कराया गया था। यह चुनाव परमाणु सम्पन्न उत्तर कोरिया के साथ बढ़ते तनाव की पृष्ठभूमि में हुआ है।
पार्क पर रिश्वत लेने एवं शक्ति के दुरुपयोग के आरोप लगाए गए थे और इस विवाद से नाराज मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। इसके अलावा मतदाता बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था की धीमी विकास दर से भी हताश थे।

डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार मून उत्तर कोरिया के साथ संवाद का समर्थन करते हैं। राष्ट्रीय चुनाव आयोग के अनुसार डेमोक्रेटिक पार्टी के मून को 41 प्रतिशत से अधिक मत मिले। मून ने अंतिम परिणाम के बाद एकजुटता का संकल्प लिया था।
मून के अनुदारवादी प्रतिद्वंद्वी होंग जून प्यो को महज 24 प्रतिशत मत मिले जबकि मध्यमार्गी आहन चेओल सू को 21 प्रतिशत मत मिले। होंग ने मून को उत्तर कोरिया समर्थक वामपंथी कहा था।

योनहाप संवाद समिति ने बताया कि पिछले 20 सालों में सर्वाधिक मतदाताओं ने मतदान दिया। एजेंसी ने कहा कि मून के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के लिए दोपहर में नेशनल असेम्बली में समारोह होने की संभावना है।

 

You might also like

Leave a Reply